माता अमृतानंदमयी मठ पिछले सप्ताह जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में हुए नक्सलियों के आतंकी हमले में शहीद हुए 40 से अधिक सीआरपीएफ जवानों के परिवारों को 5 लाख रुपये की सहायता देगा।

जवानों की शहादत पर दुख प्रकट करते हुए माता अमृतानंदमयी ने कहा कि इन बहादुरों के परिवारों का समर्थन करना हमारा धर्म है, जो राष्ट्र की रक्षा करते हुए मर गए। मेरा दिल उनके परिवारों और प्रियजनों के लिए हमेशा मौजूद है। हम सभी उनकी शांति और सलामती के लिए प्रार्थना करते हैं।

माता अमृतानंदमयी मठ ने दान की घोषणा उस वक्‍त की जब अम्मा मैसूर की यात्रा कर रही थीं, जो उनकी 2019 की भारत यात्रा के उत्तरी चरण का पहला पड़ाव था।

श्री माता अमृतानन्दमयी देवी का अय्यप्पा भक्त समागम को सम्बोधन 
२० जनवरी,२०१९ ,अय्यप्पा भक्त समागम, पुत्तरीकंडम मैदान, तिरुवनन्तपुरम 

“अय्यप्पा शास्तावे की जय… 
शरणम अय्यपा स्वामिये की जय…।” 


“प्रेम-स्वरुप,आत्मस्वरूप, यहाँ उपस्थित सभी को प्रणाम!

जिन आचार्यों ने अम्मा को इस कार्यक्रम में आमंत्रित किया, उन्हें भी प्रणाम।

शबरीमला मंदिर से सम्बन्धित हाल ही की घटनाएँ अति दुर्भाग्यपूर्ण रही हैं। मन्दिर के आधारभूत तत्त्व व मंदिरों में की जानेवाली पूजा इत्यादि का यथेष्ट ज्ञान न होना ही समस्या का मूल कारण है। प्रत्येक मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा के समय किये जानेवाला संकल्प भिन्न हैं, उस की उपेक्षा करना अनुचित है। मंदिर में की जानेवाली पूजा और विधि-विधानों के विषय में प्रवेश करने से पूर्व मंदिर में प्रतिष्ठित देवी-देवता और सर्वव्यापी ईश्वर में अंतर समझना चाहिए। सर्वव्यापी ईश्वर की कोई सीमायें नहीं हैं, न स्त्री-पुरुष का भेद है, वह सर्वत्र व्याप्त अनंत शक्ति है। परन्तु मंदिर के देवी देवताओं की बात अलग है।

समुद्र में रहने वाली मछली और घर के फ़िश-टैंक में पलने वाली मछली में अन्तर है। फ़िश-टैंक में पाली जाने वाली मछली को तो हमें दाना, ऑक्सीजन देना पड़ता है,पानी बदलते रहना पड़ता है। लेकिन समुद्र में रहने वाली मछली को इन सब की ज़रूरत नहीं पड़ती। नदी में स्नान करना हो तो हमें किन्हीं विशेष नियमों का पालन नहीं करना पड़ता लेकिन उसी नदी के पानी को एक स्विमिंग पूल में उपयोग करें तो उसे फ़िल्टर करना पड़ेगा, उसमें क्लोरीन मिलानी पड़ेगी। उसी स्विमिंग पूल में उतरने से पहले हमें अलग से स्नान करना पड़ता है, ख़ास स्विमिंग-सूट पहनना पड़ता है। स्विमिंग पूल में नहाने के साबुन का इस्तेमाल भी वर्जित होता है। हालाँकि स्विमिंग पूल में नदी का ही पानी है, फिर भी वहाँ नियम अलग हो जाते हैं। उसी प्रकार, यद्यपि मंदिर में स्थापित देवी-देवता उसी सर्वव्यापी ईश्वर के ही अंश हैं, तथापि मंदिर में शुद्धि-अशुद्धि का ख्याल रखना व आचार अनुष्ठानों का पालन करना आवश्यक है।

भक्त का जैसा भाव होता है तदनुरूप उसे फल मिलता है। बीज बोने के बाद आवश्यक खाद पानी देने पर ही फल फूल, सब्जी मिलते हैं। इसी तरह मंदिर के प्रत्येक देवता की पूजा नियमित समय पर होनी चाहिए, उनको नैवेद्य चढ़ाना चाहिए, मंदिर में शुद्धता का ध्यान रखना चाहिए और आचारों, अनुष्ठानों का पालन किया जाना चाहिए। किन्तु सर्वव्यापी ईश्वर की उपासना में ऐसे विधि-विधानों का प्रतिबन्ध नहीं होता। 

प्रत्येक मंदिर में प्रत्येक देवता का आधारभूत संकल्प भिन्न होता है। उदाहरण के लिए, किसी मंदिर में रौद्र-भाव में प्रतिष्ठित देवी की उपासना का विधान होता है तो किसी दूसरे मंदिर में शान्त भाव में प्रतिष्ठित देवी की उपासना का। तदनुसार पूजा, आचार, उपचार, शुद्धि अशुद्धि का विधान होता है। अतः परंपरागत रूप से चले आ रहे इन आचारों और अनुष्ठानों का सही पालन न किया जाए, तो यह मंदिर के वातावरण व शुद्धता को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करेगा।  


मंदिरों में पूजित देवी देवताओं को अल्पवयस्क(माइनर) माना गया है। जिस प्रकार किसी बच्चे को माता-पिता और अध्यापकों की आवश्यकता होती है, उसी प्रकार देवता को भी तंत्रियों (केरल में शास्त्र अनुसार पूजा विधान का निर्धारण व प्रतिष्ठा कर्म करनेवालों को तंत्री कहते हैं), पुजारियों  और भक्तों की आवश्यकता होती है। कोई नास्तिक मंदिर जाये तो चूंकि वह उन विश्वासों की कदर नहीं करता वह वहाँ थूक दे या मूत्र मल विसर्जन ही कर दे, अतः मंदिरों की पवित्रता भक्तों पर आश्रित है। 

शबरीमला अय्यप्पन नैष्ठिक ब्रह्मचारी थे। ऐसी मान्यता है कि शबरीमला मंदिर से जुड़े व्रत अनुष्ठान उनकी महासमाधी में प्रवेश करने से पूर्व उनकी अंतिम इच्छा के अनुरूप है। बदलते समय के साथ परिवर्तन लाना आवश्यक ज़रूर है, लेकिन अगर हम मन्दिरों के तत्त्वों का विस्मरण कर परिवर्तन लाने लगेंगे तो हमारे मूलभूत संस्कारों की हानि होने का डर है। (मलयालम में एक कहावत है कि) ‘बच्चे को बारम्बार इतना न नहलाओ कि बच्चा ही न रह जाये’ अर्थात परिवर्तन इस प्रकार न हो कि मूलभूत आधार ही मिट जाये।


श्री शंकराचार्य, श्री नारायण गुरु और श्री चट्टंबी स्वामिगल – इन सब महात्माओं ने अद्वैत सिद्धांत का प्रतिपादन किया था। किन्तु उस उच्चतम स्थिति को प्राप्त होने के पश्चात् भी उन्होंने मन्दिरों की प्रतिष्ठा की और उनमें प्रतिष्ठित देवी देवताओं के पूजन हेतु विधि-विधानों का निर्धारण भी किया। प्रत्येक मंदिर के अपने आचार होते हैं। कई बार मुझे इन मन्दिरों में आमन्त्रित किया गया और मैं वहाँ गई भी हूँ। ऐसे कई शिव-मन्दिरों में अम्मा को परम्परानुसार केवल तीन-चौथाई परिक्रमा कर के लौटने को कहा गया(उसमें निहित विश्वास ये है कि शिव असीम अनंत हैं अतः किसी दायरे में सीमित नहीं किये जा सकते) और उन विधि-विधानों का आदर करते हुए अम्मा ने वैसा ही किया। 

ब्रह्मस्थान मंदिरों की प्राण-प्रतिष्ठा के पूर्व अम्मा ने भी तत्कालीन आचार्यों व तंत्रियों से विचार-विमर्श किया था। जब अम्मा ने अपने कुछ ब्रह्मचारियों को संन्यास दीक्षा भी देनी थी तो उन्होंने इसके लिए परंपरा अनुसार सन्यास ग्रहण किये एक संन्यासी को आमन्त्रित कर, शास्त्रविदित विधि-विधान का पालन करते हुए ऐसा करवाया, आचारों का उल्लंघन नहीं किया। मंदिर हमारी संस्कृति के आधार स्तम्भ हैं। उनकी संरक्षा करना अनिवार्य है अन्यथा समय के साथ समाज किसी कटी पतंग की तरह दिशाहीन हो जाएगा।  मन्नारशाला मंदिर की (केरल का एक विख्यात मंदिर) परम्परा के अनुसार केवल एक महिला ही वहाँ की पुजारी हो सकती है। कई स्थानों पर स्कूल या कॉलेज केवल लड़कों या लड़कियों के लिए ही बने होते हैं, पर इसको लिंग भेद या लैंगिक असमानता तो नहीं कहा जा सकता। एक विशेष वय तक की बच्चियाँ व विशेष आयु से ऊपर की महिलाओं को शबरीमला जाने की अनुमति है अतः यह कहना ठीक न होगा कि वहाँ महिलाओं की अवज्ञा होती है।


छोटे बच्चों से कहा जाता है कि,”झूठ बोलोगे तो अंधे हो जाओगे” या “तुम्हारी नाक लम्बी हो जाएगी”। कहीं यह सच होता तो आज हम सभी अंधे होते, हमारी नाक बहुत लम्बी होती! परन्तु बाल्यावस्था में जब बच्चा विवेकहीन होता है, सही गलत में भेद नहीं कर पाता तब ऐसी चेतावनियों से उसे लाभ होता है। यह व्यावहारिक तरीका है।
एक बार एक छोटे बच्चे ने चित्र बना कर अपने पिता को दिखाया और कहा, “पिताजी, देखो मैंने हाथी बनाया!” पिताजी ने सरसरी नज़र डाली तो कुछ आडी-टेढ़ी रेखाएँ खींची हुई देखीं और वो बोले, “हाथी कहाँ है? मुझे तो ऐसा कुछ नज़र नहीं आता!”  इसपर बच्चा फूट-फूट कर रोने लगा, और घर की एक-एक चीज़ को उठाकर फेंकने लगा, कितना भी मनाने पर वो शांत नहीं हुआ। आखिर में पिताजी बोले, “अरे! मेरी आँखें कमज़ोर हैं न, इसलिए ठीक से दिखाई नहीं दिया! अब मैंने चश्मा लगा कर देखा है, कितना सुन्दर हाथी बनाया है तुमने!” यह सुनकर बच्चा बहुत खुश हो गया। यह हृदय की भाषा है। अर्थात हमें श्रोता को समझकर उसके तल तक उतरना चाहिए, यहाँ केवल बुद्धि काम नहीं देती। मंदिर सोपान हैं|सीढ़ियों से चढ़कर छत पर पहुँचने के बाद हम यह समझ जाते हैं कि छत और सीढ़ियाँ समान वस्तुओं से बनी हैं – सीमेंट, रोड़ी, रेत, इत्यादि से| परन्तु यह समझने के उपरान्त भी हम सीढ़ियों को नकार नहीं सकते। छत तक पहुँचने के लिए सीढ़ियों की आवश्यकता बनी रहती है। हालांकि हमें अनुभव हो कि यह विविध नाम-रूप ईश्वर ही हैं तब भी, इस विचार से कि औरों को भी इस तल तक उठना है, हम सीढ़ियों को नकारेंगे नहीं, उनमें, सब में उस ईश्वर के दर्शन करेंगे। इसी प्रकार आचार अनुष्ठानों के तिरस्कार से हमारी संस्कृति नष्ट होगी।


गत पंद्रह वर्षों में अम्मा ने एक छोटा सा अनुसन्धान किया। शबरीमला दर्शनों के दिनों में, अम्मा ने पंद्रह वर्ष, वहाँ के हर अस्पताल में लोगों को भेजा। पता चला कि शबरीमला यात्रा अवधि के दौरान लगभग सभी अस्पतालों में आने वाले रोगियों की संख्या में 30 से 40 प्रतिशत तक की गिरावट आ जाती है। कदाचित इसका कारण यह हो कि उन महीनों के दौरान पुरुष शराब नहीं पीते, मांस नहीं खाते, अपनी पत्नी से गाली-गलोच नहीं करते, और सपरिवार व्रत का अनुष्ठान करते हैं, पूजा-पाठ करते हैं। इस तरह समाज के कितने ही परिवारों में शारीरिक एवं मानसिक संतुलन लाने में मंदिर मददगार हैं। इसीलिए इन आचार परम्पराओं की संरक्षा करना हमारी आवश्यकता है। हमारी सभ्यता की यही नीव भी है और आधार भी।


जब अर्जुन ने भगवान कृष्ण से युद्ध-नीति जाननी चाही तो श्रीकृष्ण ने उससे भीष्म से पूछने को कहा। (ऐसा नहीं था की भगवान नहीं बता सकते थे परन्तु व्यावहारिक दृष्टि से भीष्म ही अधिकारी थे।)  इस विषय-विशेष में, शबरीमला के भक्त तंत्रियों व पुजारियों तथा आप जैसे श्रद्धालु भक्तों को साथ बैठ कर चर्चा करनी चाहिए और एक निष्कर्ष तक पहुँचना चाहिए। मलयालम में एक कहावत है: “धीमे-धीमे खाते रहो तो आप ताड़ का पूरा पेड़ भी खा सकते हो!” इससे अधिक मुझे कुछ नहीं कहना, मुझसे पूर्व भी कई लोग अधिकतर वो सब कह चुके हैं जो इस विषय पर कहा जाना चाहिए।
ॐ नमः शिवाय

2 अक्तूबर 2018 दिल्ली 

दिल्ली के राष्ट्रपति भवन सांस्कृतिक केन्द्र में आयोजित, महात्मा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय स्वच्छता सम्मलेन में माननीय प्रधानमन्त्री, श्री नरेन्द्र मोदी तथा यूनाइटेड नेशन्स के महासचिव, श्री अंतोनिओ गुतरेस ने श्री माता अमृतानन्दमयी देवी(अम्मा) को, चार वर्ष पूर्व प्रारम्भ हुए स्वच्छ-भारत-अभियान के अंतर्गत, स्वच्छ भारत कोष हेतु 100 करोड़ रुपयों राशि का, सर्वाधिक योगदान देने के लिए पुरस्कृत किया। इस धनराशि का उपयोग, गंगा-तट पर रहने वाले गरीब लोगों के लिए शौचालय बनाने के लिए किया गया। 

PM Modi honouring Amma 

मंच से बोलते हुए, प्रधान मन्त्री ने अम्मा को, माता अमृतानन्दमयी मठ द्वारा समर्पित, स्वच्छता एवं पर्यावरण-रक्षण जैसी सेवाओं के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि, ” मैं विशेष रूप से पूज्य अम्मा को प्रणाम करता हूँ क्योंकि जबसे इस कार्य को प्रारम्भ किया, पूज्य अम्मा ने सक्रिय रूप से, एक प्रकार से पूरे अभियान को अपने कन्धों पर ले लिया। उनका योगदान अद्भुत रहा है। अम्मा आज स्वयं समय निकाल कर के, पूज्य बापू की जन्म-जयन्ती पर हमारे बीच आई हैं, इसके लिए मैं हृदय से आपका धन्यवाद करता हूँ। ”

Amma being introduced to UN Secretary General Antonio Guterres by PM Narendra Modi

इस सम्मलेन में अम्मा और उनके आश्रम के योगदान पर एक छोटा सा वीडियो भी दिखाया गया जिसमें अम्मा कह रही थीं कि, “जैसे सुबह उठते ही हम दाँत साफ़ करते हैं, पर्यावरण की स्वच्छता भी वैसी ही है। यह हमारे अपने स्वास्थ्य और सुख के लिए है। यदि हम किसी गंदे नाले को समुचित भाव के साथ साफ़ करें तो वो भी ईश्वर की सेवा समान है। सनातन धर्म में, स्रष्टा और सृष्टि दो अलग चीज़ें नहीं हैं। स्वच्छता का महत्व सर्वोपरि है।” 

मेरे बच्चो, अपने अन्दर प्रेम का दीप जला कर आगे बढ़ चलो। हम हर क़दम सुविचार और मुस्कुराते चेहरे के साथ उठाएँगे तो साधुता स्वयं आ कर हमारे अस्तित्व को भर देगी। फिर भला परमात्मा हमसे दूर रह ही कहाँ पाएँगे! वो आ कर हमें अपने अंक में भर लेंगे। हमारे जीवन का कोई क्षण फिर सुख-शान्ति से रहित नहीं होगा। – अम्मा

बच्चो, नवरात्रि एक अवसर है सकल जगत-कारिणी, पराशक्ति की पूजा-उपासना करने का! इन नौ दिनों की पूर्णाहूति होती है विजयदशमी के दिन। ये नौ दिन व्रत-उपवास आदि साधना-उपासना के लिए होते हैं। आलस्य, काम-क्रोध, अहंकार, ईर्ष्या-द्वेष, अधीरता व अविश्वास – ये सब दुर्गुण साधना के मार्ग में बाधाएं हैं। तप के माध्यम से इन पर विजय पा कर आध्यात्मिक पूर्णता को प्राप्त करना नवरात्रि का उद्देश्य है। हमें शिक्षा मिलती है कि जप-तप से हमें शक्ति, मांगल्य तथा ज्ञान की प्राप्ति होती है।

स्वरूप से जगत ब्रह्म है, जिसमें जगत के बनने से भी कभी कोई विकार नहीं आता। जगत की सृष्टिकर्त्री को हम ‘देवी’ कहते हैं। ब्रह्म और देवी में कोई भेद नहीं है, बल्कि एक ही सत्य-वस्तु है, जैसे सूर्य और उसका प्रकाश पृथक नहीं, मधु और उसकी मिठास या शब्द और उसका अर्थ बिलग नहीं होते। सनातन धर्म में हमें परमात्मा को किसी भी मनचाहे रूप में पूजने की छूट है। हम उसकी उपासना चाहे माँ के रूप में करें, पिता के रूप में, गुरु-रूप में, मित्र, भगवान के रूप में, यहाँ तक कि अपने बच्चे के रूप में भी। बस, हमारी भक्ति निष्काम हो और उसका आधार अध्यात्म होवे।

सांसारिक सम्बन्धों में, माँ-बच्चे का सम्बन्ध सबसे पवित्र होता है। बच्चे को माँ के साथ पूर्ण-स्वतंत्रता का अनुभव होता है। वो जो चाहे, रो कर, ज़िद कर के मांग लेता है। चाहे उसकी पिटाई भी क्यों न हो रही हो, बच्चा माँ को कस कर चिपका रहता है। उसका भाव होता है, “मेरी माँ के सिवा, मेरा कोई और ठिकाना नहीं है!” बच्चे की परेशानी का कारण जो भी हो, उसे आराम माँ की गोद में आ कर ही मिलता है। हमारा भी परमात्मा के प्रति ऐसा ही भाव होना चाहिए। और माँ तो धैर्य की मूरत होती ही है। उसका बच्चा कितनी भी गलतियां क्यों न करता रहे, वो माफ़ करती रहती है और अपना वात्सल्य बरसाती रहती है। सभी माताओं का अपने बच्चों के प्रति ऐसा ही वात्सल्य-भाव होता है। देवी-माँ भी अपने सब प्राणियों पर समान रूप से प्रेम की वर्षा करती हुई, मानव को अध्यात्म की ओर लिए चलती है।

कई लोग प्रश्न करते हैं कि, “देवी को माया क्यों कहते हैं? माया तो हमें मोह, दुःख और बन्धन में डालती है। तो यदि देवी माया है तो फिर उसकी पूजा-अर्चना क्यों करें?” बच्चो, यह जगत देवी का व्यक्त-रूप है। देवी की सृजनात्मक शक्ति अपनी समस्त सृष्टि में व्याप्त है। वो शक्ति जो एकमेव शुद्ध, अनन्त चेतन शक्ति को नाम-रूप के सीमित संसार में अभिव्यक्त होने देती है, उसका नाम है माया। तो, इस मायाशक्ति के माध्यम से ही ईश्वर हमें अपने कर्मफल के भोग के योग्य बनाता है। इसी शक्ति के चलते ईश्वर हमारे सामने परमात्मा को इस प्रकार से प्रस्तुत करता है कि हमारी समझ में आ सके और हम मुक्ति पा सकें। जब हम देवी की उपासना माया के रूप में करते हैं तो हम इस सत्य को स्वीकार कर, उसे सविनय प्रणाम करते हैं। वास्तव में, माया का बँधनात्मक पहलू हमारा मन ही है, कोई बाहरी वस्तु या शक्ति नहीं। माया इस मन का मूल रूप है, जो बन्धन का भी कारण है और मोक्ष का भी।

एक बार एक आदमी को डकैतों ने लूट कर पेड़ के साथ बांध दिया और फिर कुँए में फेंक दिया। इस आदमी ने सहायता के लिए पुकारा तो कोई राहगीर दौड़ कर आया और कुएँ में रस्सी फेंकी, जिसे पकड़ कर वो बाहर आ गया। तो यहाँ देखो, एक रस्सी ने उसे बंधन में डाला तो दूसरी रस्सी ने उसकी रक्षा की। इसी प्रकार, हमारे बंधन और मोक्ष का कारण बनता है। जब सांसारिक वस्तुओं में रम जाता है तो बन्धन का कारण बनता है और जब हम अपने शुद्ध-बुद्ध स्वरूप के प्रति जागृत हो उठते हैं तो मोक्ष का। तो मन के द्वारा ही मन पर विजय पानी है। मान लो, हमारे पाँव में काँटा चुभ जाये तो क्या हम उसे बाहर निकालने के लिए दूसरे कांटे का सहारा नहीं लेते? और फिर दोनों काँटों को फेंक देते हैं। इसी प्रकार, हमें अपने मन के द्वारा ही राग-द्वेष से परे जाना है और सद्गुणों व ज्ञान का विकास करना है। इस तरह मन द्वारा ही हमें मानसिक शुद्धि प्राप्त करनी है और फिर अपने सत्स्वरूप को जान कर मन की सीमा के पार चले जाना है।

बच्चो, समस्त सृष्टि को परमात्म-स्वरुप जान कर, उसकी सेवा करो। इससे हम परमात्मा के कृपापात्र बन जायेंगे। यह ज़रा कठिन हो सकता है लेकिन हमें कोशिश करनी चाहिए कि हमसे जितना बन पड़े, उतना करें। छोटी-छोटी सी चीज़ें जैसे मीठी सी मुस्कान, दूसरों की गलतियों को माफ़ कर देना…सहायक सिद्ध होती हैं। ये सद्गुण किसी टॉर्च की तरह हमारी राह को रोशन कर देंगे। और हमारी राह जब पूरी तरह से रोशन हो जाएगी तो फिर हमें रस्सी में साँप का और साँप में रस्सी का भ्रम नहीं होगा। फिर हम जो चीज़ जैसी है, उसे वैसा ही देख पाएंगे और दुःख से मुक्त हो जायेंगे।

नवरात्रि का त्यौहार मेरे सभी बच्चों में सद्गुणों जगाये! तुम सब पर ईश्वर कृपा करें!

-अम्मा, श्री माता अमृतानन्दमयी देवी